Thursday, October 22, 2020

गांगुली ने अपने आखिरी मैच को किया याद, बोले- धोनी के इस फैसले से रह गया था हैरान

भारतीय क्रिकेट टीम (India Cricket Team) के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की मासूमियत का भला कौन फैन नहीं, जब वो मैदान से भी बाहर होते हैं तो उनके चाहने वाले उन्हें याद करते हैं।

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम (India Cricket Team) के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की मासूमियत का भला कौन फैन नहीं, जब वो मैदान से भी बाहर होते हैं तो उनके चाहने वाले उन्हें याद करते हैं। महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) से प्रभावित हुए बिना कौन रह सकता है। फिर चाहे वह सौरभ गांगुली ही हों, जिन्होंने टीम इंडिया में धोनी को जगह पक्की करने का पूरा मौका दिया। धोनी के लिए गांगुली ने अपना बल्लेबाज क्रम में न्यौछाबर कर दिया।

गांगुली ने धोनी को बैटिंग क्रम पर नंबर 7 पर भी आजमाया और जब वहां थोड़े फीके रहे तो उन्हें अपनी जगह नंबर 3 पर भी बैटिंग के लिए भेजा। फिर वक्त ने करवट ली और गांगुली टीम की कप्तानी भी छिनी और वह टीम से भी बाहर हो गए। लेकिन चैंपियन दादा ने चैंपियन वाले अंदाज में एक बार फिर वापसी की और फिर वह 2008 तक क्रिकेट खेले।

मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरभ गांगुली हाल ही में टीम इंडिया के टेस्ट ओपनिंग बल्लेबाज मयंक अग्रवाल से बीसीसीआई टीवी के खास कार्यक्रम ‘ओपन नेट्स विद मयंक’ पर रू-ब-रू हुए। इस मौके पर उन्होनें महेंद्र सिंह धोनी के हैरानी भरे फैसले और अपने विदाई टेस्ट मैच को याद किया।

गांगुली ने अपने करियर का आखिरी टेस्ट मैच नागपुर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। इस टेस्ट मैच में एमएस धोनी टीम इंडिया की कमान संभाल रहे थे। इस सीरीज के लिए अनिल कुंबले कप्तान थे। लेकिन नागपुर टेस्ट से पहले दिल्ली टेस्ट में उनका हाथ चोटिल हो गया और कुंबले इस उसी टेस्ट से संन्यास ले लिया।

करियर के आखिरी लम्हों में गांगुली भी धोनी के फैसले को देखकर हैरान रह गए। उन्होंने मैच के अंतिम क्षणों में गांगुली को ही टीम की कप्तानी करने को कहा। धोनी चाहते थे कि सब गांगुली को एक कप्तान के तौर पर पहचानते हैं और उन्हें उसी अंदाज में टीम की कप्तानी करते हुए क्रिकेट को अलविदा कहना चाहिए।

धोनी के इस फैसले को याद करते हुए गांगुली ने कहा, ‘मेरा आखिरी टेस्ट नागपुर में था। यह अंतिम दिन का अंतिम सत्र था। मैं विदर्भ स्टेडियम से मैदान की ओर नीचे उतर रहा था। टीम के सभी खिलाड़ी मेरे आसपास खड़े थे और मैं मैदान में आ रहा था।’

मैच में कुछ ही ओवर बाकी थे कि धोनी ने कप्तानी की कमान गांगुली को देने का निर्णय किया। गांगुली ने कहा, ‘यह मेरे लिए हैरानी भरा था। मैंने ऐसी उम्मीद नहीं की थी। लेकिन एमएस धोनी एमएस धोनी ही हैं। वह हमेशा अपनी कप्तानी की ही तरह हैरानियों भरे हैं। हम टेस्ट मैच जीतने वाले थे और मेरे दिमाग में रिटायरमेंट चल रही था। मैं नहीं जानता कि उन तीन-चार ओवर में मैंने क्या किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सोनू सूद 39 बच्चों का कराएंगे लीवर ट्रांसप्लांट, सर्जरी के लिए फिलीपींस से दिल्ली लाए जाएंगे मासूम

सोनू सूद कई सारे नेक कामों के बाद अब एक और बड़ा काम करने जा रहे हैं। एक्टर फिलीपींस से 39 बच्चों को लिवर...

Atmnirbhar Bharat: बीएसएफ के हथियारों को मिलेगी ताकत, गोला-बारूद की पहली खेप भेजी

नई दिल्ली: रक्षा के क्षेत्र में शुरू हुआ आत्मनिर्भर अभियान अब जोर पकड़ता जा रहा है। विदेशी हथियारों की लिस्ट बनाकर आयात...

फेसबुक की बड़ी कारवाई, इंस्टाग्राम के यौन गतिविधियों से जुड़ी विषयों पर लगाया रोक

नई दिल्ली:फेसबुक ने साल की दूसरी तिमाही में इंस्टाग्राम से हिंसा मूलक सामग्री और चित्रों सहित वयस्क नग्नता और यौन गतिविधि से...

फोर्ब्स की हाईएस्ट एक्टर्स की लिस्ट में शामिल होने वाले इकलौते स्टार बनें अक्षय कुमार, इतनी है कमाई

मुंबई। फोर्ब्स की वर्ल्ड हाईएस्ट पेड-10 सेलेब्रिटीज की लिस्ट आउट हो चुकी है। इस बार इस लिस्ट में इकलौते बॉलीवुड एक्टर अक्षय...