Thursday, October 29, 2020

रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कोरोना से भारत में बढ़ेगा कैंसर!

ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया और दक्षिण कोरिया जैसे देश कैंसर से लड़ने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं, जबकि भारत और फिलीपींस जैसे देश बीमार हैं। यह रिपोर्ट इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा तैयार की गई है।

नई दिल्‍ली: जैसे-जैसे एशियाई देशों में रहने वाले लोग समृद्ध होते हैं, वह अस्वस्थ जीवन शैली अपनाने लगे हैं जिससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया और दक्षिण कोरिया जैसे देश कैंसर से लड़ने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं, जबकि भारत और फिलीपींस जैसे देश बीमार हैं। यह रिपोर्ट इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा तैयार की गई है। इसके साथ ही भारत में कोरोना के बाद कैंसर के मामले बढ़ने की भी चेतावनी जारी की गई है।

ईआईयू ने कैंसर के मामलों को लेकर एक मिनी सुनामी की चेतावनी दी है, क्योंकि कोरोनो वायरस कम होने के बाद मरीज अस्पतालों का दौरा करने में सुरक्षित महसूस करते हैं। कोरोना वायरस के डर से कैंसर के रोगियों ने अस्पतालों में इलाज कराने से परहेज किया है। यहां तक ​​कि अस्पतालों ने कोविड-19 मामलों को ठीक करने के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता के रूप में कैंसर के इलाज में कोताही बरती है। उदाहरण के लिए फिलीपींस में कैंसर के मरीज जो उन्नत चिकित्सा सुविधाओं में भाग लेने में सक्षम नहीं थे, उन्हें छुट्टी दे दी गई।

इसमें 45 संकेतकों का उपयोग करके 10 एशिया-प्रशांत देशों की तैयारियों को मापा गया और प्रत्येक देश के लिए एक स्कोरकार्ड बनाया गया, जिसमें 100 अंक सबसे अधिक तैयार देश को दिए गए।

ऑस्ट्रेलिया को 92.4 स्कोर मिला और वह टॉप पर है, इसके बाद दक्षिण कोरिया 83.4 और मलेशिया 80.3 का स्‍थान रहा। तीनों में कठोर टीकाकरण कार्यक्रम चालू किया है, जिसमें हेपेटाइटिस बी जो लीवर कैंसर से जुड़ा है और एचपीवी जो गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का कारण बन सकता है। ये देश राष्ट्रीय स्तर पर अलग-अलग मामलों की जानकारी जुटाने में आक्रामक हैं, ताकि नीति निर्माता समस्या के पैमाने को समझ सकें और प्रभावी प्रतिक्रियाएं तैयार कर सकें।

रैंकिंग से संकेत मिलता है कि उपरोक्त तीनों देशों ने मृत्यु दर को कम रखने में कामयाबी हासिल की है। यह प्रारंभिक अवस्था में कैंसर का पता लगा रहे हैं और रोगियों का प्रभावी ढंग से इलाज करने में सक्षम हैं। अगर कैंसर फैल जाता है तो उसका इलाज करना मुश्किल हैं।

हानिकारक आदते चिंता का विषय
फिलीपींस, वियतनाम और इंडोनेशिया सभी तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था हैं, जिनकी आबादी ने धूम्रपान जैसी बुरी आदतों को विकसित किया है। उदाहरण के लिए लगभग 40% इंडोनेशियाई 15 वर्ष की आयु में धूम्रपान करते हैं। इसी तरह थाईलैंड और इंडोनेशिया में बच्चों में मोटापा निकट भविष्य में एक समस्या बन सकती है।

ईआईयू का सुझाव है कि सरकार स्वास्थ्य देखभाल लागत को सब्सिडी देकर कम आय वाले समूहों का समर्थन कर सकती हैं और रोगियों को अपने चिकित्साबिलों का 20% से अधिक का भुगतान नहीं करना चाहिए। चिकित्सा खर्च का 62.4% भारत में अभी भी रोगियों द्वारा भुगतान किया जाता है, फिलीपींस में 53%, वियतनाम में 45.3% और चीन में 36.1%।

वर्तमान में इन देशों में सरकारी स्वास्थ्य देखभाल व्यय भी कम है। नई दिल्ली में कुल व्यय का केवल 3.4%, मनीला में 7.1%, बीजिंग में 9.1% और हनोई में 9.5% है।

रेडियोथेरेपी और कैंसर अनुसंधान जैसे कैंसर उपचार में जापान शीर्ष स्थान पर है। टोक्यो ने बीमारी से निपटने को प्राथमिकता दी है, क्योंकि यह 1981 से मौतों का प्रमुख कारण बन गया। हालांकि, जापान के पास डेटा संग्रह के लिए एक खराब ट्रैक रिकॉर्ड है। EIU ने “जापान में धूम्रपान और शराब की खपत जैसे परिवर्तनीय जोखिम वाले कारकों की व्यापकता का उल्लेख किया” और सरकार से स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने का आग्रह किया। अग्रिम चिकित्सा सुविधाओं और बेहतर सेवाओं के बावजूद जापान में कैंसर के रोगियों की ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया के रोगियों की तुलना में मृत्यु दर अधिक है।

कैंसर जीन की क्षति के कारण होता है और इस तरह की आनुवांशिक त्रुटियां उम्र, मोटापे और बुरी आदतों, जैसे धूम्रपान, शराब का सेवन और व्यायाम की कमी से बढ़ती हैं। दुनिया में कैंसर के आधे मरीज वर्तमान में एशिया में रहते हैं। 2030 तक क्षेत्र में कैंसर के मामलों में 35% की वृद्धि होने की संभावना है, यहां तक ​​कि इसकी आबादी सिर्फ 9% बढ़ने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सोनू सूद 39 बच्चों का कराएंगे लीवर ट्रांसप्लांट, सर्जरी के लिए फिलीपींस से दिल्ली लाए जाएंगे मासूम

सोनू सूद कई सारे नेक कामों के बाद अब एक और बड़ा काम करने जा रहे हैं। एक्टर फिलीपींस से 39 बच्चों को लिवर...

Atmnirbhar Bharat: बीएसएफ के हथियारों को मिलेगी ताकत, गोला-बारूद की पहली खेप भेजी

नई दिल्ली: रक्षा के क्षेत्र में शुरू हुआ आत्मनिर्भर अभियान अब जोर पकड़ता जा रहा है। विदेशी हथियारों की लिस्ट बनाकर आयात...

फेसबुक की बड़ी कारवाई, इंस्टाग्राम के यौन गतिविधियों से जुड़ी विषयों पर लगाया रोक

नई दिल्ली:फेसबुक ने साल की दूसरी तिमाही में इंस्टाग्राम से हिंसा मूलक सामग्री और चित्रों सहित वयस्क नग्नता और यौन गतिविधि से...

फोर्ब्स की हाईएस्ट एक्टर्स की लिस्ट में शामिल होने वाले इकलौते स्टार बनें अक्षय कुमार, इतनी है कमाई

मुंबई। फोर्ब्स की वर्ल्ड हाईएस्ट पेड-10 सेलेब्रिटीज की लिस्ट आउट हो चुकी है। इस बार इस लिस्ट में इकलौते बॉलीवुड एक्टर अक्षय...